Monday, May 22, 2017

आइना संगसार करना था

बहुत अरसा हुआ ब्लॉग पर किताबों के बारे में कुछ लिखे या कोई ग़ज़ल कहे , कोई कारण नहीं था बस मन ही नहीं हुआ। अब इस उम्र में दिमाग पर जोर डालकर कोई काम करने का मन नहीं करता जब जो सहज भाव से हो जाय वही ठीक लगता है। अचानक लफ्ज़ के पोर्टल पर एक तरही मिसरे को देख कर सोचा की कुछ कहूं पर क्या कहूं इसी सोच में दिन बीतते गए। जैसे तैसे टुकड़ों में शेर कहने की कोशिश की और हमेशा की तरह निहायत सीधी सादी साधारण सी ग़ज़ल हो गयी जिसे साझा कर हूँ। जैसे आप सब पहले भी मुझे पढ़ते आये हैं वैसे अब भी पढ़ ले और मन कहे तो भला बुरा भी कह दें। तरही मिसरा था " हमको ये दश्त पार करना था"



दिल हमें बेकरार करना था 
आपका इंतिज़ार करना था 

जिस्म को बेचना गुनाह नहीं 
रूह का इफ़्तिख़ार करना था 
इफ़्तिख़ार=सम्मान

 उस तरफ वो मिले मिले न मिले 
हमको ये दश्त पार करना था 
दश्त = जंगल

बोझ पलकों पे बढ़ गया मेरी 
झील को आबशार करना था 
आबशार =झरना

क्यों पशेमा है देख कर चेहरा 
आइना संगसार करना था 
संगसार = पत्थर मार कर तोडना

मैं मिटा कर उसे हुआ तनहा 
अपने दुश्मन से प्यार करना था 

जानेमन, बच गया हूँ शर्म करो 
 तुमको भरपूर वार करना था